कफ़न सा मेरा प्यार ।

अफ़वा सी थी की मेरी तबियत ख़राब है 

लोगों ने पूछ पूछ के बीमार कर दिया ,
दोष तो तुम्हारी मुस्कुराहट का था 

हमने तो सिर्फ़ बेहद प्यार कर दिया ,
बोला था सच तो ज़हर पिलाया गया मुझे 

अच्छाइयों ने मुझे गुनहगार कर दिया ,
इंसानियत ने जब आख़िरी ख़्वाहिश पूछी

तो जलने से हमने इंकार कर दिया ,
दो फ़ुट सा मिला मुझे प्यार का सुकून

ऐ मोहब्बत तेरी दी मौत ने मुझे ज़मींदार कर दिया ।

Advertisements

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s